वायरलेस चार्जिंग कैसे काम करता है? पूरी जानकारी

आज के समय में मोबाइल एक प्रकार से युवाओं की जरूरत बन गया है हर काम मोबाइल से होता है यहां तक कि आधी जिंदगी मोबाइल बन गई है अगर किसी से 1 घंटे के लिए मोबाइल ले लिया जाए तो मैं पागल सा हो जाता है मोबाइल होता है तो उसके लिए चार्जिंग की जरूरत पड़ती है
Source: Google.com

अभी हाल ही में कुछ कंपनियों ने वायरलेस चार्जिंग देनी शुरू कर दिया है क्या आप जानते हैं कि 42 चार्जिंग कैसे होती है तो चलिए बताते हैं

वायरलेस चार्जिंग में 2 भाग होते हैं

  • ट्रांसमीटर 
  • रिसीवर


नंबर 1 ट्रांसमीटर नंबर 2 रिसीवर ट्रांसमीटर यानी और भेजने वाला ट्रांसमीटर चार्जर में लगा होता है और यह एक चुंबकीय क्षेत्र होता है नंबर तो रिसीवर रिसीवर यानी ऊर्जा प्राप्त करने वाला यह मोबाइल में लगा होता है

अब जब मोबाइल को चार्जर से कनेक्ट करते हैं तब ट्रांसमीटर चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न करता है और रिसीवर को इलेक्ट्रॉनिक्स की मदद से डीसी में और जो भेजता है और इस प्रकार मोबाइल की बैटरी चार्ज होने लगती है